Ajeeb Dastan Hai Yeh Lyrics in Hindi

Ajeeb Dastan Hai Yeh Lyrics in Hindi

अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम

अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम

ये रौशनी के साथ क्यूँ
धुआं उठा चिराग से
ये ख्वाब देखती हूँ मैं
के जग पड़ी हूँ ख्वाब से

अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम

मुबारकें तुम्हें के तुम
किसी के नूर हो गए
किसी के इतने पास हो
के सबसे दूर हो गए

अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम

किसी का प्यार ले के तुम
नया जहां बसाओगे
ये शाम जब भी आएगी
तुम हमको याद आओगे

अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम

Ajib dastan hai yeh
Kaha shuru kaha khatam
Yeh manjile hai kaun si naa
Woh samajh sake naa ham

Ajib dastan hai yeh
Kaha shuru kaha khatam
Yeh manjile hai kaun si naa
Woh samajh sake naa ham

Yeh roshni ke sath kyu
Dhuan utha chirag se
Yeh roshni ke sath kyu
Dhuan utha chirag se
Yeh khwab dekhti hu mai
Ke jag padi hu khwab se

Ajib dastan hai yeh
Kaha shuru kaha khatam
Yeh manjile hai kaun si naa
Woh samajh sake naa ham

Mubarke tumhe ke
Tum kisi ke nur ho gaye
Mubarke tumhe ke
Tum kisi ke nur ho gaye
Kisi ke itne pas ho ke
Sab se dur ho gaye

Ajib dastan hai yeh kaha
Shuru kaha khatam
Yeh manjile hai kaun si naa
Woh samajh sake naa ham

Kisi kaa pyar leke tum
Naya jahan basaoge
Kisi kaa pyar leke tum
Naya jahan basaoge
Yeh sham jab bhi aayegi
Tum hamko yad aaoge

Ajib dastan hai yeh
Kaha shuru kaha khatam
Yeh manjile hai kaun si naa
Woh samajh sake naa ham

Leave a Comment

Your email address will not be published.