तेरी मिट्टी Teri Mitti Tribute – B Praak

तेरी मिट्टी Teri Mitti Tribute – B Praak

नन्ही सी हसी भोली सी ख़ुशी
फूलों सी वो बाहें भूल गए
जब देश ने दी आवाज़ हमें
हम घर की राहें भूल गए

हम सोये नहीं कई रातों से
ए जाने वतन सौ चाँद बुझे
हमें नींद उसी दिन आएगी
जब देखेंगे आबाद तुझे

तेरी मिट्टी में मिल जावां
गुल बनके मैं खिल जावां
इतनी सी है दिल की आरजू

तेरी नदियों में बह जावां
तेरे खेतों में लहरावां
इतनी सी है दिल की आरजू

मजबूर हुई जब दिल की दुआ तो
हमने दवा काम लिया
वो नब्ज़ नहीं फिर थमने दी
जिस नब्ज़ को हमने थाम लिया

बीमार है जो किस धर्म का है
हमसे ना कभी ये भेद हुआ
सरहद पे जो वर्दी खाकी थी
अब उसका रंग सफ़ेद हुआ

तेरी मिट्टी में मिल जावां
गुल बनके मैं खिल जावां
इतनी सी है दिल की आरजू

तेरी नदियों में बह जावां
तेरे खेतों में लहरावां
इतनी सी है दिल की आरजू

null

Leave a Comment

Your email address will not be published.