तुझे कितना Tujhe Kitna Chahne Lage Hum – Kabir Singh

तुझे कितना Tujhe Kitna Chahne Lage Hum – Kabir Singh

दिल का दरिया बह ही गया
इश्क इबादत बन ही गया
खुद को मुझे तू सौंप दे
मेरी ज़रुरत तू बन गया

बात दिल की नज़रों ने की
सच कह रहा तेरी कसम

तेरे बिन अब ना लेंगे एक भी दम
तुझे कितना चाहने लगे हम
तेरे बिन अब ना लेंगे एक भी दम
तुझे कितना चाहने लगे हम
तेरे साथ हो जायेंगे ख़तम
तुझे कितना चाहने लगे हम

बात दिल की नज़रों ने की
सच कह रहा तेरी कसम

तेरे बिन अब ना लेंगे एक भी दम
तुझे कितना चाहने लगे हम
तेरे साथ हो जायेंगे ख़तम
तुझे कितना चाहने लगे हम
तुझे कितना चाहने लगे हम

इस जगह आ गयी चाहतें अब मेरी
छीन लूँगा तुम्हे सारी दुनिया से ही
तेरे इश्क पे हाँ हक़ तेरा ही तो है
कह दिया है ये मैंने मेरे रब से भी

जिस रास्ते तू ना मिले
उस पे ना हो मेरे कदम

तेरे बिन अब ना लेंगे एक भी दम
तुझे कितना चाहने लगे हम
तेरे साथ हो जायेंगे ख़तम
तुझे कितना चाहने लगे हम
तुझे कितना चाहने लगे हम

ओ.. ओ..

तुझे कितना चाहने लगे हम..

null

Leave a Comment

Your email address will not be published.