काफ़िराना Qaafirana – Kedarnath

काफ़िराना Qaafirana – Kedarnath

इन वादियों में टकरा चुके हैं
हमसे मुसाफ़िर यूँ तो कई
दिल ना लगाया हमने किसी से
किस्से सुने हैं यूँ तो कई

ऐसे तुम मिले हो
ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो
इत्र से हवा
काफ़िराना सा है
इश्क है या क्या है

ऐसे तुम मिले हो
ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो
इत्र से हवा
काफ़िराना सा है
इश्क है या क्या है

ख़ामोशियों में बोली तुम्हारी
कुछ इस तरह गूंजती है
कानो से मेरे होते हुए वो
दिल का पता ढूंढती है

बेस्वादियों में, बेस्वादियों में
जैसे मिल रहा हो कोई ज़ायका

काफ़िराना सा है
इश्क है या क्या है

ऐसे तुम मिले हो
ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो
इत्र से हवा
काफ़िराना सा है
इश्क हैं या क्या है

ला ला ला ला..
आहा हा आहा..

गोदी में पहाड़ियों की
उजली दोपहरी गुज़रना
हाय हाय तेरे साथ में
अच्छा लगे..

शर्मीली अंखियों से
तेरा मेरी नज़रें उतरना
हाय हाय हर बात पे
अच्छा लगे..

ढलती हुई शाम ने
बताया है की
दूर मंजिल पे रात है

मुझको तसल्ली है ये
के होने तलक रात
हम दोनों साथ है

संग चल रहे हैं
संग चल रहे हैं
धुप के किनारे
छाव की तरह..

काफ़िराना सा है
इश्क हैं या क्या है

हम्म.. ऐसे तुम मिले हो
ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो
इत्र से हवा
काफ़िराना सा है
इश्क हैं या क्या है

null

Leave a Comment

Your email address will not be published.