कलंक Kalank Title Song Lyrics in Hindi – Arijit Singh

कलंक Kalank Title Song Lyrics in Hindi – Arijit Singh

हवाओं में बहेंगे
घटाओं में रहेंगे
तू बरखा मेरी
मैं तेरा बादल पिया

जो तेरे ना हुवे तो
किसी के ना रहेंगे
दीवानी तू मेरी
मैं तेरा पागल पिया

हज़ारों में किसी को
तक़दीर ऐसी मिली है
इक राँझा और हीर जैसी

ना जाने ये ज़माना
क्यों चाहे रे मिटाना
कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया
कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया
पिया, पिया, पिया रे..
हिंदीट्रैक्स
पिया रे, पिया रे..
पिया रे, पिया रे, पिया रे, पिया रे..

दुनिया की नजरों में ये रोग है
हो जिनको वो जाने ये जोग है
इक तरफा शायद हो दिल का भरम
दो तरफा है तो ये संजोग है

लायी रे हमें जिंदगानी की कहानी
कैसे मोड़ पे
हुवे रे खुद से पराये
हम किसी से नैना जोड़ के

हज़ारों में किसी को
तक़दीर ऐसी मिली है
इक राँझा और हीर जैसी

ना जाने ये ज़माना
क्यों चाहे रे मिटाना
कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया
कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया

मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा
मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा
मैं गहरा तामस तू सुनहरा सवेरा
मैं तेरा ओ, मैं तेरा
मुसाफिर मैं भटक तू मेरा बसेरा
मैं तेरा ओ.. मैं तेरा

तू जुगनू चमकता
मैं जंगल घनेरा
मैं तेरा आ..
ओ पिया मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा
हो.. मैं तेरा
हो.. मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा
ओ..

null

Leave a Comment

Your email address will not be published.